July 1, 2022

युरेशिया

राष्ट्रहित सर्वोपरि

डेट बढ़ी पर नहीं मिला सभी कार्ड धारको को राशन

यूरेशिया संवाददाता

-मेरठ गरीबो के लिए बनाये गए राशन कार्ड उनके लिए कोरोना काल से ही संजीवनी का काम कर रहे है। लेकिन राशन डीलर अपनी मनमानी से बाज आने को तैयार नहीं। राशन वितरण के पहले चक्र की तिथि 22 और 23 थी जिसे दो दिन बढ़ा कर 24 से 25 कर दी गई थी लेकिन 24 और 25 को अधिकतर दुकाने बंद ही नजर आई जिसकी वजह से कई कार्ड धारको को अपने हक़ के निवाले से वंचित रहना पड़ा। दैनिक यूरेशिया समाचार पत्र में पूर्व में प्रकाशित एक समाचार पत्र में दिसंबर माह में शायद एक ही बार राशन मिल पाए कुछ राशन कार्ड धारको को समाचार प्रकाशित किया था। राशन वितरण की तिथि 5 तारीख से थी जबकि अधिकतर दुकानों पर राशन का वितरण 22 से किया गया। गरीबो से ज्यादा ए सी कार बड़े मकान वाले ले रहे लाभ —-

गरीबो को भूखा न रहना पड़े इसके लिए सरकार द्वारा उन्हें माह में दो बार फ्री राशन दिया जा रहा है जिसका फायदा कुछ बड़े मकान वाले जिनके घर में ए सी कार तक है वो भी ले रहे है इन व्यक्तियों के राशन कार्ड बन कैसे गए जबकि राशन कार्ड बनवाना आम जनता के लिए टेढ़ी खीर साबित हो रहा है। मेरठ की शायद ही कोई ऐसी दूकान होगी जो नियम से चल रही हो बावजूद इसके आपूर्ति विभाग अब कार्यवाही करने को तैयार नहीं है ये जरूर है की अगर हंगामा हो जाए तो इनकी नींद जरूर खुल जाती है जिसका जीता जागता सबुत हाल ही में देखने को मिला। घटना 14 दिसम्बर की है। सिविल लाईन थाना क्षेत्र के अन्तर्गत जेल चूंगी पर सरकारी राशन से लदे कैंटर से राशन की बोरियां कालाबाजारी के लिए रिक्शे में लोड कराई जा रही थी , जिसकी सूचना एंटी करप्शन मूवमेंट की टीम द्वारा जिला आपूर्ति अधिकारी, खाद्य निरीक्षक और सिविल लाईन थाने को दी गई। सिविल लाईन पुलिस रिक्शे में अवैध रूप से लदे राशन को रिक्शे सहित थाने ले गई जहां पर खाद्य निरीक्षक ने राशन डीलर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के लिए कोई एप्लीकेशन नहीं दी जिस कारण 16 दिसम्बर तक राशन की कालाबाजारी करने वालों के विरुद्ध कोई मुकदमा दर्ज नहीं हुआ।

उसके बाद एन्टी करप्शन मूवमेंट भारत की महानगर टीम अपने प्रभारी सुशील कुमार के नेतृत्व में थाने पहुंचा जहाॅ जानकारी दी गई कि आपूर्ति विभाग के निरीक्षक द्वारा एफ आई आर नहीं दी गई जिस कारण राशन की कालाबाजारी करने वालों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज नहीं हुआ है, इसकी सूचना जिला आपूर्ति अधिकारी को दी गई। तब कही जाकर कालाबाजारी करने वालो पर मुकदमा दर्ज किया गया इस कारगुजारी से ऐसा साबित होता है कि कही न कही पूर्ति निरीक्षक ही राशन डीलरों की कालाबाजारी करने में सहयोग करते है ,इसी माह में मिलेगा दूसरे चरण का राशन – दूसरे चरण का राशन वितरण 28 या 29 से होने की उम्मीद है राशन वितरण के लिए सस्ते गल्ले वाले कितने दिन दूकान खोलेंगे ये कह पाना अभी मुश्किल है।