June 30, 2022

युरेशिया

राष्ट्रहित सर्वोपरि

एक्शन में मेरठ पुलिस : सोतीगंज में छापा –

यूरेशिया संवाददाता

मेरठ सांसद राजेंद्र अग्रवाल कई बार सोतीगंज में चोरी और लूट के वाहन कटने की बात संसद में कह चुके हैं। एक साल पहले सांसद राजेंद्र अग्रवाल द्वारा मुख्यमंत्री को चिट्ठी लिखकर सोतीगंज के कई कबाड़ियों के बारे में अवगत कराया था । इस पर मेरठ पुलिस की काफी किरकिरी हुई थी। लेकिन एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने आते ही सोतीगंज के कबाड़ियों पर सख्ती करते हुए कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।

बताते चले  सोतीगंज में पुलिस वाहन काटने वालों पर लगातार शिकंजा कस रही है। गुरुवार को एस पी कैंट सूरज राय के नेतृत्व में सोतीगंज में बड़ी कार्रवाई करते हुए पुलिस ने कबाड़ियों की धरपकड़ के लिए छापा मारा। छापा पड़ने की भनक लगते ही कई कबाड़ी जहां दुकानों के शटर गिराकर भाग निकले, तो कई दुकानों और गोदामों को पुलिस ने सील कर दिया।बता दें कि सदर बाजार पुलिस सोतीगंज के कुख्यात मन्नू उर्फ मुईनुद्दीन कबाड़ी की 1.10  करोड़ की संपत्ति कुर्क कर चुकी है। सोतीगंज में चोरी और लूट के वाहन काटने वाले कबाड़ियों की पुलिस ने सूची बनाई है, लेकिन दो दर्जन से अधिक मुकदमे दर्ज होने के बावजूद भी इन कबाड़ियों पर कार्रवाई नहीं की जा रही थी। दरअसल, कई कबाड़ियों से पुलिस की दोस्ती थी। अब एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने पहले अवैध काम करने वाले पुलिसकर्मियों को हटाकर लाइन में भेजा और कबाड़ियों पर कार्रवाई शुरू कराई।वाहन कमेला चलाने वाले कबाड़ियों की धरपकड़ के लिए गुरुवार को एएसपी कैंट सूरज राय ने सोतीगंज में छापा मारा। उन्होंने बारी-बारी कई कबाड़ियों के गोदाम व दुकानो को खंगाला और वहां मौजूद सामान का रजिस्टरों से मिलान किया। कई गोदाम पर रिकॉर्ड न मिलने के बाद उन्होंने गोदाम सील कर दिए और कबाड़ी को हिरासत में लेकर थाने भिजवा दिया। एएसपी की इस कार्यवाही से हड़कंप मच गया।सोतीगंज की कार्यवाही के दौरान बाजार में हड़कंप मचा रहा। शुरूआत के चार गोदाम से पुलिस ने 40 से ज्यादा इंजन के रिकॉर्ड न होने के कारण अपने कब्जे में लेकर थाने भिजवा दिए। कबाड़ी को भी रजिस्टर के साथ थाने भेज दिया गया।कुछ जगह महिलाओ ने पुलिस का हल्का विरोध किया, लेकिन पुलिस की सख़्ती के आगे उनकी एक न चली। एएसपी ने बताया कि इंजन की संख्या बढ़ रही है। सभी को कब्जे में लिया गया है। कबाड़ी जिसका विवरण उपलब्ध करा देगा, उसको रिलीज कर दिया जाएगा। बाकी पर रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।