May 26, 2022

युरेशिया

राष्ट्रहित सर्वोपरि

प्रमोद दीक्षित मलय कलम का सिपाही सम्मान से विभूषित

यूरेशिया संवाददाता

बांदा। जनपद के वरिष्ठ साहित्यकार एवं शिक्षक प्रमोद दीक्षित मलय को उनके साहित्यिक अवदान के लिए कलम का सिपाही सम्मान से विभूषित किया गया है। मित्रों ने बधाई एवं शुभकामनाएं देकर खुशी में शामिल हुए। प्राथमिक शिक्षक प्रमोद दीक्षित मलय साहित्य के क्षेत्र में विगत तीन दशकों से न केवल विविध विधाओं में लेखन कर रहे हैं बल्कि साहित्यिक समारोहों एवं गोष्ठियों में अपनी उपस्थिति से गौरवान्वित कर रहे हैं। मलय ने कविता, कहानी, लेख, समीक्षा, संस्मरण, जीवनी, व्यंग्य, आत्मकथा एवं बाल साहित्य में लगातार लिख रहे हैं। आपने कुछ समय पत्रकारिता भी किया है। आपकी रचनाएं आकाशवाणी केंद्र से नियमित प्रसारित होती हैं और देश-विदेश के प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं में प्रमुखता से छपतीं हैं। कोरोना काल में आप विशिष्ट अतिथि एवं अध्यक्ष के रूप में गोष्ठियों में सहभागिता कर रहे हैं। समय-समय पर आपकी रचनाधर्मिता को विभिन्न संस्थाओं द्वारा सम्मानित भी किया गया है। इसी क्रम में महादेवी वर्मा साहित्य शोध संस्थान, सोनभद्र द्वारा आपको एक आनलाईन कार्यक्रम में कलम का सिपाही सम्मान प्रदान किया गया है। संस्था प्रमुख डॉ. बृजेश महादेव ने आपको सम्मानित करते हुए कहा कि प्रमोद दीक्षित मलय छंद के जानकार हैं। आपकी रचनाओं में जहां एक ओर प्रकृति के विभिन्न पक्ष दिखाती पड़ते हैं वहीं श्रंगार की मनोहारी रचनाएं पाठक के हृदय में रसोद्रेक करती हैं। आपकी रचनाओं में आमजन का स्वर अपने पूरे आवेग में प्रकट होता है, भूख कविता इसी कोटि की है। आप नवोदितों का मार्गदर्शन साहित्य से जोड़ रहे हैं। आज आपको सम्मानित करते हुए गर्व की अनुभूति हो रही है। मलय को कलम का सिपाही सम्मान मिलने पर परिवार एवं मित्रों ने बधाई दी है। विनोद दीक्षित, चंद्रेश पांडेय, महेंद्र गुप्ता, रामकिशोर पांडेय आदि ने प्रसन्नता व्यक्त की।