June 30, 2022

युरेशिया

राष्ट्रहित सर्वोपरि

तीसरी   लहर से निपटने के लिये स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह तैयार

  • मेडिकल कालेज में लगने वाले प्लांट से 750 मरीज होंगे कवर
  • लिक्विड, मेनोफोल्ड और ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट से मरीजों को होगी ऑक्सीजन की सप्लाई

मेरठ, 10जुलाई 2021। कोरोना की संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिए जनपद पूरी तरह से तैयार है। सभीतैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। इसके लिये 31 जुलाई आखिरी तिथि तय कर दी गयी है। मंडलायुक्त नेमंडल के सभी मुख्य चिकित्सा अधिकारियों (सीएमओ) को तय समय में कार्य पूरा कराने का अल्टीमेटम दिया है।ऑक्सीजन की कमी पूरी करने के लिए मेडिकल कालेज में ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट लगाया जा रहा है। प्लांट लगने के बाद मेडिकल कालेज में लिक्विड,  मेनोफोल्ड और ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट तीनों तरह से मरीजों को ऑक्सीजन की सप्लाई की जाएगी। सीएमओ डा. अखिलेश मोहन ने बताया मेडिकल कालेज में लगाये जा रहे नये ऑक्सीजन प्लांट से 750 मरीजों को ऑक्सीजन से कवर किया जा सकेगा। इसके अलावा 15 दिन का बैकअप भी 24 घंटे रखा जाएगा। यह प्लांट एम्स में लगने वाले प्लांट की तरह होगा। डीआरडीओ द्वारा तैयार कराये जा रहे प्लांट को पीडियाट्रिक आईसीयू से भी जोड़ा जाएगा। इसी से बच्चों के आईसीयू कोविड वार्ड को पूरी तरह कवर किया जाएगा। उन्होंने बताया संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिये मेडिकल कालेज में सौ बेड की पीडियाट्रिक इंसेटिव केयर यूनिट लगभग तैयार हो चुकी है। दस प्रतिशत बचे कार्य को एक सप्ताह में पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने बताया इसमें 50 बेड आइसोलेशन वार्ड के लिये रिजर्व होंगे। 25 बेड का आईसीयू , 25 बेड का जनरल वार्ड , 10 बेड की पीडियाट्रिक केयर यूनिट महिला अस्पताल की पुरानी बिल्डिंग में तैयार है। इसके अतिरिक्त सामुदायिक व प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र (सीएचसी व पीएससी) व नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र (यूपीएचसी) में ऑक्सीजन प्लांट लगाने के साथ ऑसीजन कंसंट्रेटर लगाये हैं।

 तीन सदस्यीय कमेटी गठित

सीएमओ ने बताया मेडिकल कालेज में स्वास्थ्य  सेवाओं को मजबूती प्रदान करने के लिये तीन सदस्यीय कमेटी गठित की गयी है। जिसमें डा. नवरत्न,  डा आंनद प्रकाश, और डा. अशोक कटारिया को शामिल किया गया है। मंडल में 57 मे से 22 ऑक्सीजन प्लांट तैयार मंडलीय सर्विलांस अधिकारी डा. अशोक तालियान ने बताया मंडल में 57 ऑक्सीजन प्लांट में से 22 पूरी तरहतैयार हो चुके हैं, जिसमें मेरठ व गाजियाबाद में तीन-तीन गौतमबुद्धनगर में छह, बुलंदशहर में आठ हापुड में दो प्लांट हैं। उन्होंने बताया अन्य सभी बचे प्लांट 31 जुलाई तक स्थापित किये जाएंगे।