January 23, 2021

युरेशिया

राष्ट्रहित सर्वोपरि

गुर्दे में पथरी होने पर इन चीजों से करें परहेज

मिताली जैन

अगर कोई व्यक्ति गुर्दे की पथरी की समस्या से पीडि़त है तो उसे अपने खानपान में बहुत अधिक नमक का सेवन नहीं करना चाहिए। नमक में सोडियम होता है जो मूत्र में कैल्शियम का निर्माण करता है। जो बाद में काफी बड़ा नुकसान बन जाता है।

इस बात में कोई दोराय नहीं है कि व्यक्ति के खानपान और उसकी सेहत का एक गहरा नाता है। जहां किसी विशेष तरह का खानपान कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं को दूर करता है तो कुछ खाद्य पदार्थ आपकी सेहत में एक रोड़ा बन जाते हैं। इसलिए किसी भी खाद्य पदार्थ को डाइट में शामिल करने से पहले आपको अपनी सेहत का ख्याल जरूर रखना चाहिए। आज इस लेख में हम किडनी स्टोन यानी गुर्दे की पथरी के बारे में बात कर रहे हैं। शरीर में पानी की कमी होने पर यह समस्या अक्सर जन्म लेती है। जो लोग पानी का पर्याप्त मात्रा में सेवन नहीं करते हैं, उन्हें इस समस्या का अधिक सामना करना पड़ता है। शरीर में पानी की कमी यूरिक एसिड और कुछ खनिजों को पतला नहीं होने देती है, जिससे गुर्दे की पथरी के निर्माण के लिए अनुकूल वातावरण बनता है। हालांकि अगर आपको यह समस्या है तो आपको कुछ चीजों से परहेज करना चाहिए। जानिए इसके बारे में−

बहुत अधिक नमक को कहें नहीं

हेल्थ एक्सपर्ट बताते हैं कि अगर कोई व्यक्ति गुर्दे की पथरी की समस्या से पीडि़त है तो उसे अपने खानपान में बहुत अधिक नमक का सेवन नहीं करना चाहिए। नमक में सोडियम होता है जो मूत्र में कैल्शियम का निर्माण करता है। जो बाद में काफी बड़ा नुकसान बन जाता है।

एनिमल प्रोटीन का सेवन करें कम

प्रोटीन शरीर में साइट्रेट के स्तर को कम करने की ओर जाता है। यह एक रसायन जो स्टोन्स को रोकने में मदद करता है। हालांकि आपको यह ध्यान रखने की जरूरत है कि आप एनिमल प्रोटीन जैसे रेड मीट, पोल्ट्री, अंडे और समुद्री भोजन में कटौती करें और अन्य स्त्रोत की मदद से शरीर की प्रोटीन संबंधी आवश्यकताओं की पूर्ति करें। आप एनिमल प्रोटीन के स्थान पर सेम, सूखे मटर, दाल, सोया दूध, टोफू, बादाम, काजू, अखरोट, पिस्ता और सूरजमुखी के बीज शामिल कर सकती हैं।

प्यूरीन समृद्ध आहार में करें कटौती

हेल्थ एक्सपर्ट कहते हैं कि गुर्दे की पथरी से पीडि़त व्यक्ति को प्यूरीन समृद्ध आहार में कटौती करना बेहद आवश्यक है। रेड मीट, ऑर्गन मीट और शेलफिश जैसे खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए क्योंकि इनमें अधिक मात्रा में प्यूरीन पाया जा सकता है।

शुगर स्वीटन फ्रूट का कम करें सेवन

डायटीशियन कहते हैं कि चीनी−मीठे फलों और पेय पदार्थों का सेवन कम करें, विशेष रूप से वे जिनमें उच्च फ्रुक्टोज कॉर्न सिरप होते हैं। फ्रुक्टोज के सेवन से मूत्र में कैल्शियम, ऑक्सालेट्स और यूरिक एसिड की वृद्धि होती है।

इसका रखें ख्याल

अगर आप किडनी स्टोन से परेशान हैं तो आप शराब के सेवन की मात्रा को सीमित करें क्योंकि शराब यूरिक एसिड के स्तर में वृद्धि का कारण बनती है।

इस स्थिति में क्रैश डाइट बिल्कुल भी ना करें, क्योंकि वे भी यूरिक एसिड के स्तर में वृद्धि करते हैं।