April 14, 2021

युरेशिया

राष्ट्रहित सर्वोपरि

केंद्र सरकार के ‘रवैये’ से भड़के किसान, भाजपा नेताओं को घरों में बनाया ‘बंदी’

चंडीगढ़, दिल्ली में बुधवार को भाजपा सरकार द्वारा वार्ता के समय किए गए ‘बर्ताव ’से भड़के पंजाब के किसान संगठनों ने आने वाले दिनों में आंदोलन तेज करने की तैयारी कर ली है। जानकारी के अनुसार यूनियनों ने बताया कि किसान अभी तक रेलवे ट्रैक पर विरोध प्रदर्शन कर रहे थे मगर अब शहरी क्षेत्रों की मुख्य सड़कों पर भी धरने दिये जायेंगे। एक किसान नेता ने कहा कि भाजपा नेताओं का घेराव किया जाएगा क्योंकि अब किसान ‘पक्के धरने’ शुरू करेंगे। सबसे बड़े किसान संघ, भारतीय किसान यूनियन (एकता उग्राहां) ने पहले ही भाजपा नेताओं के आवासों के बाहर ‘पक्के धरने’ शुरू कर दिये हैं और उन्हें घरों में ही ‘बंदी’ बनाया दिया गया है। किसान नेताओं ने घोषणा की है कि दो बड़े कॉरपोरेट घरानों के कारोबार, जिसमें पेट्रोल पंपों भी शामिल हैं, को चलने नहीं दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि इन कॉर्पोरेट घरानों द्वारा संचालित हाईवे टोल प्लाजा का भी घेराव किया जाएगा। कुछ किसान संगठनों ने 25 अक्तूबर को शहरी क्षेत्रों में भाजपा नेताओं के पुतले जलाने का फैसला किया है। भविष्य की कार्य योजना पर अंतिम निर्णय यूनियनों द्वारा उनकी बैठक के बाद घोषित किया जाएगा, जो अभी चंडीगढ़ में चल रही है। इससे पहली शिक्षकों सहित कई यूनियनों ने किसानों को समर्थन दिया है।