August 2, 2021

युरेशिया

राष्ट्रहित सर्वोपरि

भारतीय जनता पार्टी की बड़े पद पर रह चुकी वरिष्ठ अतिसक्रिय, समर्पित महिला कार्यकर्ता पक्षपात से त्रस्त होकर थाम सकती है किसी अन्य रजनीतिंक पार्टी का दामन*

यूरेशिया संवाददाता

विश्वस्त सूत्रों से ज्ञात हुआ है कि भाजपा की बेहद तेज़ तर्रार महिला कार्यकर्ता अपने साथ लगातार हो रहे अन्याय से त्रस्त होकर अन्य राजनीतिक पार्टियों की तरफ़ से आने वाले आकर्षक ऑफ़र्ज़ पर विचार करने के लिए मजबूर हैं ।उन्होंने नाम ना बताने की शर्त पर कहा कि भाजपा में ख़ास कर महिला कार्यकर्ताओं को उनका अधिकार नहीं दिया जाता । पद देने में तो चरण वंदना तथा साँठ गाँठ का बोलबाला रहता ही है महिला आरक्षित टिकट भी सक्षम महिला कार्यकर्ताओं को ना देकर चमचों की पत्नियों या अन्य महिला रिश्तेदारों को परोस दिए जाते हैं और अन्य महिलाएँ अपने पद के छिन जाने के भय से उक्त महिला का साथ देने के लिए ये ज्ञात होते हुए भी कि उसके साथ ग़लत हो रहा है, उसका साथ नहीं देती ।जिसके फलस्वरूप वो महिला समाज में हँसी का पात्र तो बनती ही है साथ ही परिवार जनों के ताने भी सहने को मजबूर होती है जिसके कारण वो आख़िरकार या तो घर बैठ जाती है या अगर उसका काम देख कर अन्य राजनीतिक पार्टियाँ उसको कोई आकर्षक ऑफ़र देती हैं तो वो अपनी इच्छा के विरुद्ध ख़ुद को साबित करने के लिए उक्त पार्टियों में से किसी का दामन थाम लेती हैं जिससे उसको उसका हक़ ना देने वालों को उसकी अहमियत पता चल सके ।उन्होंने ये भी कहा की माननीय मोदी जी जैसा प्रधानमंत्री मिलना देश का सौभाग्य है और उन्हें मोदी जी तथा प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी से कोई शिकायत नहीं है वो देश के लिए बहुत अच्छा कार्य कर रहे हैं जिसका सुखद परिणाम आने वाली पीढ़ियों को प्राप्त होगा । उन्हें शिकायत है महानगर स्तर के उन पदाधिकारियों तथा वरिष्ठ जनप्रतिनिधियों से जो इस तरह कार्यकर्ताओं के साथ होने वाले अन्याय के मुख्य स्रोत हैं और सब कुछ जानते हुए भी सही व्यक्ति को सही हक़ नहीं दिलवाते ।