August 2, 2021

युरेशिया

राष्ट्रहित सर्वोपरि

सरधना में दलितों और जाटों के बीच खूनी संघर्ष, गोली लगने से युवक की मौत

यूरेशिया संवाददाता

मेरठ। बुधवार को सरधना थाना क्षेत्र के पोहल्ली गांव में जाट समुदाय द्वारा दलित युवक की पिटाई के बाद दोनों पक्षों के बीच खूनी संघर्ष हो गया। इस दौरान हुई फायरिंग में गांव के ही रहने वाले दूसरी जाति के एक युवक की मौत हो गई। घटना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजते हुए आरोपियों की तलाश में दबिश दी। लेकिन फिलहाल दोनों पक्ष के लोग अपने घरों से फरार हैं।जानकारी के मुताबिक गांव के दलित और जाट पक्ष में लगभग एक साल से पहले बाइक और कार की मामूली टक्कर के बाद विवाद हो गया था। जिसके बाद से दोनों पक्षों के बीच टशन चली आ रही है। बताया जाता है पिछले एक साल में दोनों पक्षों के बीच कई बार टकराव हो चुका है। आरोप है कि बुधवार की सुबह गांव के रहने वाले अभिषेक पुत्र रविंद्र जाट ने अपने घर के बाहर से गुजर रहे दलित समुदाय के पुष्पेंद्र पुत्र देवेंद्र की पिटाई कर डाली। घटना की जानकारी के बाद दलित समुदाय में आक्रोश फैल गया। पुष्पेंद्र अपने परिवार के लोगों के साथ घटना की शिकायत दर्ज कराने थाने पहुंचा। मगर इसी दौरान गांव में दलित पक्ष के दर्जनों युवक एकत्र हो गए। बताया जाता है हथियारों से लैस दलित समाज के युवक ताबड़तोड़ फायरिंग करते हुए जाटों के मोहल्ले की तरफ जा रहे थे। इसी दौरान फायरिंग में एक गोली सड़क से गुजर रहे गांव के रहने वाले 40 वर्षीय सुरेश पुत्र तिलकराम गुप्ता के लग गई। जिसके चलते सुरेश की मौके पर ही मौत हो गई। घटना के बाद पूरे गांव में हड़कंप मच गया। उधर, मामले की जानकारी मिलते ही सीओ सरधना आरपी शाही फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। पुलिस ने आनन-फानन में सुरेश के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा। जिसके बाद पुलिस ने दोनों पक्षों के आरोपियों की तलाश में उनके घरों पर दबिश दी। मगर सभी लोग अपने घरों से फरार हो हो चुके थे। सीओ सरधना ने बताया कि अभी इस मामले में किसी भी पक्ष की तरफ से कोई तहरीर नहीं मिली है। फिलहाल पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही है। उन्होंने दावा किया कि बवालियो को किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा।