August 2, 2021

युरेशिया

राष्ट्रहित सर्वोपरि

उत्तराखंड सरकार नहीं रोक सकी ‘भोलों’ की राह, हरिद्वार से जल लेकर राजस्थान रवाना हुए कांवड़िया

यूरेशिया संवाददाता

मेरठ। कांवड़ यात्रा पर प्रतिबंध को लेकर उत्तराखंड सरकार के तमाम दावे फेल होते नजर आ रहे हैं। आलम यह है कि कांवड़ यात्रा शुरू होने से कुछ दिन पहले ही दूसरे राज्यों के कांवड़ियों ने हरिद्वार का रुख कर लिया है। देर रात राजस्थान के आधा दर्जन कांवड़िया हरिद्वार से जल लेकर मेरठ पहुंचे। जहां उन्होंने बताया कि हरिद्वार में फिलहाल कांवड़ ले जाने पर कोई रोक-टोक नहीं हो रही है।बताते चलें कि यूपी सरकार ने जहां कोरोना काल के दौरान कांवड़ यात्रा को अनुमति दे दी है। वहीं दूसरी तरफ उत्तराखंड सरकार ने कोरोना के खतरे को देखते हुए अपने राज्य में कांवड़ यात्रा पर प्रतिबंध लगा दिया है। जिसके चलते उत्तराखंड सरकार ने यूपी सहित देश के अन्य सभी राज्यों से हरिद्वार से जल लेकर जाने वाले कांवड़ियों की एंट्री पर बैन लगाने का दावा किया है। मगर शुक्रवार देर रात अजमेर के पुष्कर इलाके से चला आधा दर्जन कांवड़ियों का जत्था हरिद्वार से जल लेने के बाद मेरठ पहुंचा। ‘बोल बम’ के जयकारे लगाते कांवड़िया जब मेरठ की सड़कों से गुजरे तो उनसे बातचीत की गई। ‘भोलों’ ने बताया कि वह छह दिन पहले पुष्कर से जल लेने के लिए हरिद्वार रवाना हुए थे। जहां से कांवड़ उठाकर वह वापस लौट रहे हैं। कांवड़ियों ने बताया कि फिलहाल हरिद्वार में कांवड़ियों को नहीं रोका जा रहा है। हालांकि उन्होंने दावा किया कि अगले कुछ दिनों में उत्तराखंड सरकार कांवड़ियों की एंट्री पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा देगी।