August 2, 2021

युरेशिया

राष्ट्रहित सर्वोपरि

अगस्त,सितम्बर,अक्टूबर और नवंबर में बरतनी होगी विशेष सुरक्षा

यूरेशिया संवाददाता

मेरठ। तीसरी लहर के लिए आने वाले चार महीने काफी महत्वपूर्ण माने जा रहे हैं। चिकित्सक जगत की माने तो अगस्त, सितंबर,अक्टूबर और नवंबर में विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है। इन महीनों में विशेष सुरक्षा के इंतजाम करने होगें। बता दे कि इन्हीं महीनों में त्योहार और धार्मिक उत्सव भी पड़ने वाले हैं। ऐसे में तीसर लहर को रोकना और उससे पार पाना किसी चुनौती से कम नहीं है। वहीं चिकित्सक लोगों को सावधानी बरतने की सलाह दे रहे हैं। आईएमए के अनुसार कोरोना की तीसरी लहर की शुरुआत हो चुकी है। ऐसे में अगर सावधानी और सख्ती नहीं बरती तो भयावह हालात होगे। यह लहर दूसरी से काफी घातक होगी। जिस तरह से बाजारों और सार्वजनिक स्थलों पर भारी भीड़ उमड़ रही है और नियमों की अनदेखी हो रही है, वो बहुत भारी पड़ेगी। भीड़भाड़ वाले स्थल और धार्मिक यात्राएं सुपर स्प्रेडर साबित हो सकती हैं। क्योंकि कोरोना वायरस को फैलने के लिए भीड़ और लापरवाही चाहिए। कोरोना की तीसरी लहर को लेकर जो आशंका जताई जा रही थी, उसके आने का दावा हो गया है। मतलब जिसका डर था, उसका आगाज अब हो चुका है। डा0 तुंगवीर सिंह आर्य का कहना है कि तीसरी लहर दूसरी लहर से भी ज्यादा विकराल साबित हो सकती है। एक ओर जहां कोरोना के कम होते राहत दे रहे हैं। वहीं दूसरी ओर मरने वालों की संख्या ने टेंशन बढ़ा दी। देश भर में पिछले 24 घंटे के भीतर 2020 लोगों की मौत हो गई। जिसके बाद लोगों के मन में तीसरी लहर को लेकर डर पैदा हो गया है। आईएमए के मुताबिक देश में 4 जुलाई से तीसरी लहर शुरू हो चुकी है। कोरोना की इस तीसरी लहर को घातक होने से रोका जा सकता है, लेकिन इसके लिए मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग और वैक्सीनेशन के मंत्र को हर नागरिक को मानना होगा।