August 2, 2021

युरेशिया

राष्ट्रहित सर्वोपरि

सुप्रीम कोर्ट ने मांगा जवाब: कांवड़ यात्रा की इजाजत ‘परेशान करने वाली’

नयी दिल्ली  (एजेंसी), सुप्रीम कोर्ट ने कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के बीच कांवड़ यात्रा की अनुमति देने के उत्तर प्रदेश सरकार के ‘चिंतित करने वाले’ फैसले का बुधवार को स्वत: संज्ञान लिया और केंद्र, उत्तर प्रदेश तथा उत्तराखंड की सरकारों से इस मामले पर जवाब मांगा। न्यायमूर्ति आर एफ नरीमन और न्यायमूर्ति बी आर गवई की पीठ ने केंद्र, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड की सरकारों को नोटिस जारी किए और मामले की सुनवाई के लिए शुक्रवार का दिन तय किया।

पीठ ने कहा कि उसने यह ‘परेशान करने वाली’ खबर पढ़ी कि यूपी सरकार ने यात्रा की अनुमति देने का फैसला किया है, जबकि उत्तराखंड ने इसकी अनुमति नहीं दी। लोग हैरान हैं, यह तब हो रहा है, जब प्रधानमंत्री ने कोविड-19 की तीसरी लहर के देश में आने के बारे में पूछे जाने पर कहा था कि ‘हम कतई समझौता नहीं कर सकते।’

शीर्ष अदालत ने कहा, ‘हम केंद्र, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड सरकारों को नोटिस जारी कर रहे हैं। यात्रा 25 जुलाई से शुरू होनी है, इसलिए हम चाहते हैं कि वे जल्द जवाब दायर करें ताकि मामले की सुनवाई शुक्रवार को हो सके।’