August 2, 2021

युरेशिया

राष्ट्रहित सर्वोपरि

म्यांमार में तख्तापलट का विरोध: 100 से अधिक मौतों के बावजूद सड़कों पर लोग

यांगून (एजेंसी) म्यांमार में सैन्य तख्तापलट के खिलाफ और लोकतंत्र की वापसी की मांग को लेकर कल शनिवार को सैनिकों एवं पुलिसकर्मियों की कार्रवाई में 100 से अधिक प्रदर्शनकारियों की मौत के बावजूद रविवार को भी प्रदर्शनकारी सड़कों पर उतरे। देश में पिछले महीने हुए तख्तापलट के बाद कल का दिन सबसे अधिक रक्तपात वाला था।

ऑनलाइन समाचार वेबसाइट ‘म्यांमार नाउ’ ने मौतों का आंकड़ा 114 बताया, जिनमें से अनेक की आयु 16 साल से कम थी। म्यांमार के अन्य मीडिया संस्थानों एवं विश्लेषकों ने भी इतने ही लोगों के मारे जाने की खबर दी है। विभिन्न खबरों के अनुसार, तख्तापलट के बाद से 420 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर व्यापक निंदा

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने कहा कि वह बच्चों समेत आम नागरिकों की हत्या से स्तब्ध हैं। उन्होंने ट्वीट किया, ‘जारी सैन्य कार्रवाई अस्वीकार्य है और इसके खिलाफ कड़ी, एकजुट होकर और कठोर अंतर्राष्ट्रीय प्रतिक्रिया की आवश्यकता है।’ अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने ट्वीट किया कि म्यांमार की सेना ने दिखाया है कि वह कुछ लोगों के लिए आमजन का जीवन छीन लेगी। बारह देशों (ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, जर्मनी, यूनान, इटली, जापान, डेनमार्क, हॉलैंड, न्यूजीलैंड, दक्षिण कोरिया, ब्रिटेन और अमेरिका) के रक्षा प्रमुखों ने एक संयुक्त बयान में कहा, ‘हम म्यांमार सशस्त्र बल से अपील करते हैं कि वह हिंसा बंद करे और म्यांमार के लोगों में अपना सम्मान एवं विश्वसनीयता फिर से कायम करने के लिए काम करे, जो उसने अपने इन कृत्यों से गंवा दी है।’