March 2, 2021

युरेशिया

राष्ट्रहित सर्वोपरि

इंसानियत अभी जिंदा है यह मिसाल पेश की मिर्जापुर कोतवाली प्रभारी ने

ब्लड की कमी के कारण जिंदगी और मौत से जूझ रही महिला को इंस्पेक्टर ने किया अपना रक्तदान
अरविंद/शहनाज

मिर्जापुर(सहारनपुर) इंसानियत अभी “जिंदा है यह मिसाल कायम की मिर्जापुर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक अमरदीप लाल ने” बेहट तहसील के कस्बा मिर्जापुर में स्थित ग्लोकल मेडिकल कॉलेज में नफीसा नाम की एक महिला ब्लड के अभाव में जिंदगी और मौत से जूझ रही थी जिसको ब्लड देने की सूचना सोशल मीडिया पर वायरल हुई ब्लड की आवश्यकता है की सूचना सोशल मीडिया पर वायरल होते ही मिर्जापुर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक अमरदीप लाल ग्लोबल मेडिकल कॉलेज के ब्लड बैंक में पहुंचे क्योंकि उनका ब्लड ग्रुप भी वहीं था जो जिंदगी और मौत से जूझ रही मरीज का था। ब्लड बैंक पहुंचते ही उन्होंने डॉक्टर से कहा कि मेरा ब्लड ग्रुप बी पॉजिटिव है मेरा ब्लड लेकर ब्लड की कमी से जिंदगी और मौत से जूझ रही उस महिला की जान बचाई जाए।

मिर्जापुर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक अमरदीप लाल ने कहा कि किसी की जिंदगी को बचाने के लिए अगर उसे खून देना पड़े तो उससे बड़ा पुण्य का काम दूसरा नहीं होता। यह सब देख कर मुझे शायर वसीम राजूपुरी के कहे अल्फाज याद आ गए। ख़ून नाहक़ बहाने से क्या फायदा, ख़ून अपना बचा कर रखो दोस्तों। दान कर दो जरूरत हो जिसको यहां, भाईचारा बनाकर रखो दोस्तों।

You may have missed

1 min read

चोरी गए वाहन क्लेम मामले में मध्य प्रदेश राज्य उपभोक्ता आयोग का अहम फैसला, बीमा कंपनी को देनी पड़ेगी ब्याज सहित क्लेम राशि दिनेश शुक्ल फरवरी 13, 2021 13:48 LIKE चोरी गए वाहन क्लेम मामले में मध्य प्रदेश राज्य उपभोक्ता आयोग का अहम फैसला, बीमा कंपनी को देनी पड़ेगी ब्याज सहित क्लेम राशि वरिष्ठ अधिवक्ता ललित कुमार गुप्ता ने बताया कि बीमित वाहन के चोरी के प्रकरण में जिस कारण क्लेम निरस्त किया गया है एवं जिस कारण घटना घटित हुई है में परस्पर संबंध होना आवश्यक है। केवल तकनीकी कारण से क्लेम को निरस्त नहीं किया जा सकता। भोपाल। मध्य प्रदेश राज्य उपभोक्ता आयोग ने बीमा कंपनी के खिलाफ वाहन मालिक के पक्ष में फैसला सुनाया है। दस साल की लंबी लड़ाई के बाद चोरी गए चार पहिया वाहन मालिक को ब्याज सहित क्लेम की पूरी राशि देने का उपभोक्ता आयोग ने आदेश दिया है। वाहन मालिक की तरफ से पैरवी करने वाले वरिष्ठ अधिवक्ता ललित कुमार गुप्ता ने बताया कि फरियादी देवेंद्र सक्सेना ने एक बोलेरो जीप वर्ष 2009 में खरीदी थी। जिसका बीमा इफको टोक्यो कंपनी से कराया था। उपरोक्त वाहन 30-08-2010 की रात चोरी हो गया। जिसकी प्रथम सूचना रिपोर्ट पुलिस थाने में दर्ज कराई गई और बीमा कंपनी से आवेदक द्वारा क्लेम की राशि की मांग की गई। इसे भी पढ़ें: शिवराज सरकार सिर्फ विज्ञापनों में चला रही माफिया के खिलाफ अभियान- जीतू पटवारी लेकिन बीमा कंपनी द्वारा क्लेम इस आधार पर निरस्त कर दिया गया कि घटना के समय वाहन का व्यवसायिक उपयोग किया जा रहा था। आवेदक द्वारा बीमा कंपनी के खिलाफ प्रकरण जिला उपभोक्ता आयोग दतिया में प्रस्तुत किया गया। जिला आयोग दतिया द्वार आवेदक के परिवाद को स्वीकार कर क्लेम राशि का भुगतान किए जाने का आदेश किया था। जिसके विरुद्ध बीमा कंपनी द्वारा अपील राज्य आयोग भोपाल में की गई। राज्य आयोग भोपाल द्वारा अपने आदेश में यह व्यवस्था दी गई कि घटना एवं क्लेम निरस्तीकरण दोनों में परस्पर संबंध होना चाहिए। चोरी के प्रकरण में वाहन के व्यवसायिक उपयोग का आधार स्वीकार योग्य नहीं है। इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में बढ़ी गिद्धों की संख्या, पर्यावरण संरक्षक गिद्धों की हुई थी गणना आयोग द्वारा बीमा कंपनी की अपील निरस्त कर जिला फोरम का आदेश यथावत रखा गया। वरिष्ठ अधिवक्ता ललित कुमार गुप्ता ने बताया कि बीमित वाहन के चोरी के प्रकरण में जिस कारण क्लेम निरस्त किया गया है एवं जिस कारण घटना घटित हुई है में परस्पर संबंध होना आवश्यक है। केवल तकनीकी कारण से क्लेम को निरस्त नहीं किया जा सकता।