August 2, 2021

युरेशिया

राष्ट्रहित सर्वोपरि

इंसानियत अभी जिंदा है यह मिसाल पेश की मिर्जापुर कोतवाली प्रभारी ने

ब्लड की कमी के कारण जिंदगी और मौत से जूझ रही महिला को इंस्पेक्टर ने किया अपना रक्तदान
अरविंद/शहनाज

मिर्जापुर(सहारनपुर) इंसानियत अभी “जिंदा है यह मिसाल कायम की मिर्जापुर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक अमरदीप लाल ने” बेहट तहसील के कस्बा मिर्जापुर में स्थित ग्लोकल मेडिकल कॉलेज में नफीसा नाम की एक महिला ब्लड के अभाव में जिंदगी और मौत से जूझ रही थी जिसको ब्लड देने की सूचना सोशल मीडिया पर वायरल हुई ब्लड की आवश्यकता है की सूचना सोशल मीडिया पर वायरल होते ही मिर्जापुर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक अमरदीप लाल ग्लोबल मेडिकल कॉलेज के ब्लड बैंक में पहुंचे क्योंकि उनका ब्लड ग्रुप भी वहीं था जो जिंदगी और मौत से जूझ रही मरीज का था। ब्लड बैंक पहुंचते ही उन्होंने डॉक्टर से कहा कि मेरा ब्लड ग्रुप बी पॉजिटिव है मेरा ब्लड लेकर ब्लड की कमी से जिंदगी और मौत से जूझ रही उस महिला की जान बचाई जाए।

मिर्जापुर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक अमरदीप लाल ने कहा कि किसी की जिंदगी को बचाने के लिए अगर उसे खून देना पड़े तो उससे बड़ा पुण्य का काम दूसरा नहीं होता। यह सब देख कर मुझे शायर वसीम राजूपुरी के कहे अल्फाज याद आ गए। ख़ून नाहक़ बहाने से क्या फायदा, ख़ून अपना बचा कर रखो दोस्तों। दान कर दो जरूरत हो जिसको यहां, भाईचारा बनाकर रखो दोस्तों।