March 1, 2021

युरेशिया

राष्ट्रहित सर्वोपरि

ग्राम खजूरी चुनावी रंजिश में सुलग रहा है

नौशाद सैफी/ यूरेशिया
परीक्षितगढ़ – ग्राम खजूरी मे बीती रात दूसरे पक्ष के लोगों ने एक पक्ष के लोगों के घर में घुसकर जान से मारने की नीयत से फायरिंग , मारपीट व माँ बेटी के साथ अश्लील हरकते करने मामले में एसएसपी के आदेश पर थाना पुलिस ने दो दर्जन आरोपियों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज कर लिया है ।

ग्राम खजूरी ढेड़ माह से चुनावी रंजिश में सुलग रहा है । ग्राम खजूरी निवासी इस्तकार पुत्र जाफर रविवार रात अपने परिवार के साथ घर में सो रहा था । वही गांव में चुनावी रंजिश के चलते एक पक्ष के करीब दो दर्जन लोगो ने इस्तकार के घर पहुच कर गाली गलौच करने लगे । गाली गलौच का विरोध करने पर उक्त लोगो ने उसके घर पर हमला बोल दिया तथा ताबडतौड फायरिंग करते हुए उसकी पत्नी व बेटी के साथ अश्लील हरकते करते हुए धारदार हथियारों से हमला कर गंभीर रूप से मां बेटी को घायल कर दिया । वही हमलावारों ने कानूनी कार्रवाई करने पर जान से मारने की धमकी देते हुए फरार हो गए । पीडित परिवार ने रात में था पहुंच कर २४ लोगों को नामजद करते हुए तहरीर दी । लेकिन पुलिस ने पीड़ित की रिपोर्ट दर्ज नहीं की और उलटा ही घायल व पीडित को थाने से टरका दिया ।

इस मामले में पीडित नेएसएसपी कार्यालय पर पहुंच कर आरोपियों पर कार्रवाई की मांग की । पुलिस ने एसएसपी के आदेश पर गुलफाम , फरमान , गुलहसन , जुलफेकार , गुलजार , इमरान , इरफान , हसीन , शौकिन , सफीक , गुलफाम उर्फ अटल , सलीम , शाहाबाज , नबाब , अय्यूब , जमील , कमर , मजहर , साजिद , मौहम्मद , महराज , फिरोज , वसीम , साजिद निवासी गण खजूरी के खिलाफ गंभीर धाराओं में रिपोट दर्ज की ।

You may have missed

1 min read

चोरी गए वाहन क्लेम मामले में मध्य प्रदेश राज्य उपभोक्ता आयोग का अहम फैसला, बीमा कंपनी को देनी पड़ेगी ब्याज सहित क्लेम राशि दिनेश शुक्ल फरवरी 13, 2021 13:48 LIKE चोरी गए वाहन क्लेम मामले में मध्य प्रदेश राज्य उपभोक्ता आयोग का अहम फैसला, बीमा कंपनी को देनी पड़ेगी ब्याज सहित क्लेम राशि वरिष्ठ अधिवक्ता ललित कुमार गुप्ता ने बताया कि बीमित वाहन के चोरी के प्रकरण में जिस कारण क्लेम निरस्त किया गया है एवं जिस कारण घटना घटित हुई है में परस्पर संबंध होना आवश्यक है। केवल तकनीकी कारण से क्लेम को निरस्त नहीं किया जा सकता। भोपाल। मध्य प्रदेश राज्य उपभोक्ता आयोग ने बीमा कंपनी के खिलाफ वाहन मालिक के पक्ष में फैसला सुनाया है। दस साल की लंबी लड़ाई के बाद चोरी गए चार पहिया वाहन मालिक को ब्याज सहित क्लेम की पूरी राशि देने का उपभोक्ता आयोग ने आदेश दिया है। वाहन मालिक की तरफ से पैरवी करने वाले वरिष्ठ अधिवक्ता ललित कुमार गुप्ता ने बताया कि फरियादी देवेंद्र सक्सेना ने एक बोलेरो जीप वर्ष 2009 में खरीदी थी। जिसका बीमा इफको टोक्यो कंपनी से कराया था। उपरोक्त वाहन 30-08-2010 की रात चोरी हो गया। जिसकी प्रथम सूचना रिपोर्ट पुलिस थाने में दर्ज कराई गई और बीमा कंपनी से आवेदक द्वारा क्लेम की राशि की मांग की गई। इसे भी पढ़ें: शिवराज सरकार सिर्फ विज्ञापनों में चला रही माफिया के खिलाफ अभियान- जीतू पटवारी लेकिन बीमा कंपनी द्वारा क्लेम इस आधार पर निरस्त कर दिया गया कि घटना के समय वाहन का व्यवसायिक उपयोग किया जा रहा था। आवेदक द्वारा बीमा कंपनी के खिलाफ प्रकरण जिला उपभोक्ता आयोग दतिया में प्रस्तुत किया गया। जिला आयोग दतिया द्वार आवेदक के परिवाद को स्वीकार कर क्लेम राशि का भुगतान किए जाने का आदेश किया था। जिसके विरुद्ध बीमा कंपनी द्वारा अपील राज्य आयोग भोपाल में की गई। राज्य आयोग भोपाल द्वारा अपने आदेश में यह व्यवस्था दी गई कि घटना एवं क्लेम निरस्तीकरण दोनों में परस्पर संबंध होना चाहिए। चोरी के प्रकरण में वाहन के व्यवसायिक उपयोग का आधार स्वीकार योग्य नहीं है। इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में बढ़ी गिद्धों की संख्या, पर्यावरण संरक्षक गिद्धों की हुई थी गणना आयोग द्वारा बीमा कंपनी की अपील निरस्त कर जिला फोरम का आदेश यथावत रखा गया। वरिष्ठ अधिवक्ता ललित कुमार गुप्ता ने बताया कि बीमित वाहन के चोरी के प्रकरण में जिस कारण क्लेम निरस्त किया गया है एवं जिस कारण घटना घटित हुई है में परस्पर संबंध होना आवश्यक है। केवल तकनीकी कारण से क्लेम को निरस्त नहीं किया जा सकता।