March 1, 2021

युरेशिया

राष्ट्रहित सर्वोपरि

खुलासा : कलंजरी में महिला की गर्दन काटने वाला भतीजा निकला, गिरफ़्तार

अनीस खान यूरेशिया ब्यूरो

मेरठ। जानी थाना क्षेत्र के कलंजरी गांव में बुधवार को हुई महिला की हत्या का पुलिस ने सनसनीखेज खुलासा कर दिया। पुलिस ने महिला के जेठ के बेटे को हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया है। पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त चाकू भी बरामद किया है। एसपी देहात ने बताया कि युवक अपनी चाची से नाजायज संबंध बनाना चाहता था। महिला ने विरोध किया तो आरोपी ने चाची की चाकू से हत्या कर दी।
एसपी देहात केशव कुमार ने पुलिस लाइन में प्रेस वार्ता के दौरान घटना का खुलासा करते हुए बताया कि कलंजरी गांव में बुधवार को महिला कुमुद शर्मा की चाकू से गोदकर हत्या कर दी गई थी। पुलिस व फोरेंसिक टीम ने जांच पड़ताल की। जिसमें पुलिस की जांच में सामने आया कि महिला के जेठ संजय का बेटा मानिक के हाथ में कई जगह चाकू के निशान हैं और जो एक हाथ में पट्टी बांधे हुए था। हत्या के बाद हत्यारोपी मानिक भी मौके पर घूमता रहा और अंतिम संस्कार में भी शामिल रहा।
फॉरेंसिक साक्ष्य के आधार पर पुलिस ने मानिक भारद्वाज पुत्र संजय भारद्वाज निवासी कलंजरी से पूछताछ की तो उसने हत्या में अपना जुर्म कबूल लिया। एसपी देहात ने बताया कि मानिक भारद्वाज ने अपनी चाची से तीन माह पहले भी अवैध संबंध बनाने का प्रयास किया था। महिला जिसका विरोध करती थी। बुधवार सुबह महिला जब घर में अकेली थी। तभी मानिक घर में घुस गया और जबरन चाची से दुष्कर्म का प्रयास किया। महिला ने विरोध करते हुए अपने भतीजे को चांटा मार दिया और यह बात घर परिवार के लोगों को बताने की बात कही। इस पर युवक ने रसोई से चाकू लाकर अपनी चाची के चेहरे पर ताबड़तोड़ वार किए। महिला ने बचने का प्रयास किया। हत्या के बाद आरोपी युवक ने कपड़े भी छिपाए।

You may have missed

1 min read

चोरी गए वाहन क्लेम मामले में मध्य प्रदेश राज्य उपभोक्ता आयोग का अहम फैसला, बीमा कंपनी को देनी पड़ेगी ब्याज सहित क्लेम राशि दिनेश शुक्ल फरवरी 13, 2021 13:48 LIKE चोरी गए वाहन क्लेम मामले में मध्य प्रदेश राज्य उपभोक्ता आयोग का अहम फैसला, बीमा कंपनी को देनी पड़ेगी ब्याज सहित क्लेम राशि वरिष्ठ अधिवक्ता ललित कुमार गुप्ता ने बताया कि बीमित वाहन के चोरी के प्रकरण में जिस कारण क्लेम निरस्त किया गया है एवं जिस कारण घटना घटित हुई है में परस्पर संबंध होना आवश्यक है। केवल तकनीकी कारण से क्लेम को निरस्त नहीं किया जा सकता। भोपाल। मध्य प्रदेश राज्य उपभोक्ता आयोग ने बीमा कंपनी के खिलाफ वाहन मालिक के पक्ष में फैसला सुनाया है। दस साल की लंबी लड़ाई के बाद चोरी गए चार पहिया वाहन मालिक को ब्याज सहित क्लेम की पूरी राशि देने का उपभोक्ता आयोग ने आदेश दिया है। वाहन मालिक की तरफ से पैरवी करने वाले वरिष्ठ अधिवक्ता ललित कुमार गुप्ता ने बताया कि फरियादी देवेंद्र सक्सेना ने एक बोलेरो जीप वर्ष 2009 में खरीदी थी। जिसका बीमा इफको टोक्यो कंपनी से कराया था। उपरोक्त वाहन 30-08-2010 की रात चोरी हो गया। जिसकी प्रथम सूचना रिपोर्ट पुलिस थाने में दर्ज कराई गई और बीमा कंपनी से आवेदक द्वारा क्लेम की राशि की मांग की गई। इसे भी पढ़ें: शिवराज सरकार सिर्फ विज्ञापनों में चला रही माफिया के खिलाफ अभियान- जीतू पटवारी लेकिन बीमा कंपनी द्वारा क्लेम इस आधार पर निरस्त कर दिया गया कि घटना के समय वाहन का व्यवसायिक उपयोग किया जा रहा था। आवेदक द्वारा बीमा कंपनी के खिलाफ प्रकरण जिला उपभोक्ता आयोग दतिया में प्रस्तुत किया गया। जिला आयोग दतिया द्वार आवेदक के परिवाद को स्वीकार कर क्लेम राशि का भुगतान किए जाने का आदेश किया था। जिसके विरुद्ध बीमा कंपनी द्वारा अपील राज्य आयोग भोपाल में की गई। राज्य आयोग भोपाल द्वारा अपने आदेश में यह व्यवस्था दी गई कि घटना एवं क्लेम निरस्तीकरण दोनों में परस्पर संबंध होना चाहिए। चोरी के प्रकरण में वाहन के व्यवसायिक उपयोग का आधार स्वीकार योग्य नहीं है। इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में बढ़ी गिद्धों की संख्या, पर्यावरण संरक्षक गिद्धों की हुई थी गणना आयोग द्वारा बीमा कंपनी की अपील निरस्त कर जिला फोरम का आदेश यथावत रखा गया। वरिष्ठ अधिवक्ता ललित कुमार गुप्ता ने बताया कि बीमित वाहन के चोरी के प्रकरण में जिस कारण क्लेम निरस्त किया गया है एवं जिस कारण घटना घटित हुई है में परस्पर संबंध होना आवश्यक है। केवल तकनीकी कारण से क्लेम को निरस्त नहीं किया जा सकता।