March 1, 2021

युरेशिया

राष्ट्रहित सर्वोपरि

पिता को साइकिल के कैरियर पर बैठाकर गुरूग्राम से दरभंगा जाने वाली साइकिल गर्ल से PM मोदी ने की बात

प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क 

पिता को साइकिल के कैरियर पर बैठाकर गुरूग्राम से दरभंगा जाने वाली साइकिल गर्ल से PM मोदी ने की बात
16 वर्षीय ज्योति देशभर के उन 32 बच्चों में से थीं जो अपने संबंधित एनआईसी केंद्रों पर पहुंचे थे और प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार से सम्मानित किए जाने के समय प्रधानमंत्री के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की।

दरभंगा। देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान अपने पिता को साइकिल के कैरियर पर बैठाकर गुरूग्राम से 1200 किलोमीटर की दूरी तय कर बिहार के दरभंगा पहुंची साइकिल गर्ल के नाम से चर्चित ज्योति कुमारी सोमवार को फिर से सुर्खियों में उस समय आईं जब उन्होंने प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार से सम्मानित किए जाने के समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बातचीत की। 16 वर्षीय ज्योति देशभर के उन 32 बच्चों में से थीं जो अपने संबंधित एनआईसी केंद्रों पर पहुंचे थे और प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार से सम्मानित किए जाने के समय प्रधानमंत्री के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की। इस अवसर पर ज्योति के पिता, उनकी मां और स्थानीय प्रशासनिक पदाधिकारी मौजूद थे।

इसे भी पढ़ें: बोरिस जॉनसन ने भारत को दी गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं, बोले- कोरोना के खिलाफ जंग में दोनों देश मिलकर कर रहे हैं
मोदी ने बच्चों के साहस और दृढ़ संकल्प के उनके कृत्यों के लिए उनकी सराहना की और पुरस्कार प्राप्त करने वाले बच्चों से कहा कि वे प्रत्येक वर्ष कम से कम एक महापुरुष की जीवनी जरूर पढ़ें। इससे जीवन में बहुत प्रेरणा मिलती है। दरभंगा के जिलाधिकारी त्यागराजन एसएम ने कहा कि ज्योति कुमारी को बहादुरी के लिए प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार प्रदान किया गया है। पुरस्कार स्वरूप उसे एक लाख रुपये, प्रशस्ति पत्र एवं मेडल प्रदान किया जाएगा। बिहार सरकार द्वारा दरभंगा जिला के सिंहवाड़ा प्रखंड के सिरहुल्ली गांव निवासी मोहन पासवान की बेटी ज्योति कुमारी के बारे में जिलाधिकारी ने कहा कि दरभंगा के लिए यह गर्व की बात है। ज्योति को नशा मुक्ति अभियान के लिए राज्य सरकार द्वारा पहले ही ब्रांड एंबेसडर बनाया जा चुका है।

You may have missed

1 min read

चोरी गए वाहन क्लेम मामले में मध्य प्रदेश राज्य उपभोक्ता आयोग का अहम फैसला, बीमा कंपनी को देनी पड़ेगी ब्याज सहित क्लेम राशि दिनेश शुक्ल फरवरी 13, 2021 13:48 LIKE चोरी गए वाहन क्लेम मामले में मध्य प्रदेश राज्य उपभोक्ता आयोग का अहम फैसला, बीमा कंपनी को देनी पड़ेगी ब्याज सहित क्लेम राशि वरिष्ठ अधिवक्ता ललित कुमार गुप्ता ने बताया कि बीमित वाहन के चोरी के प्रकरण में जिस कारण क्लेम निरस्त किया गया है एवं जिस कारण घटना घटित हुई है में परस्पर संबंध होना आवश्यक है। केवल तकनीकी कारण से क्लेम को निरस्त नहीं किया जा सकता। भोपाल। मध्य प्रदेश राज्य उपभोक्ता आयोग ने बीमा कंपनी के खिलाफ वाहन मालिक के पक्ष में फैसला सुनाया है। दस साल की लंबी लड़ाई के बाद चोरी गए चार पहिया वाहन मालिक को ब्याज सहित क्लेम की पूरी राशि देने का उपभोक्ता आयोग ने आदेश दिया है। वाहन मालिक की तरफ से पैरवी करने वाले वरिष्ठ अधिवक्ता ललित कुमार गुप्ता ने बताया कि फरियादी देवेंद्र सक्सेना ने एक बोलेरो जीप वर्ष 2009 में खरीदी थी। जिसका बीमा इफको टोक्यो कंपनी से कराया था। उपरोक्त वाहन 30-08-2010 की रात चोरी हो गया। जिसकी प्रथम सूचना रिपोर्ट पुलिस थाने में दर्ज कराई गई और बीमा कंपनी से आवेदक द्वारा क्लेम की राशि की मांग की गई। इसे भी पढ़ें: शिवराज सरकार सिर्फ विज्ञापनों में चला रही माफिया के खिलाफ अभियान- जीतू पटवारी लेकिन बीमा कंपनी द्वारा क्लेम इस आधार पर निरस्त कर दिया गया कि घटना के समय वाहन का व्यवसायिक उपयोग किया जा रहा था। आवेदक द्वारा बीमा कंपनी के खिलाफ प्रकरण जिला उपभोक्ता आयोग दतिया में प्रस्तुत किया गया। जिला आयोग दतिया द्वार आवेदक के परिवाद को स्वीकार कर क्लेम राशि का भुगतान किए जाने का आदेश किया था। जिसके विरुद्ध बीमा कंपनी द्वारा अपील राज्य आयोग भोपाल में की गई। राज्य आयोग भोपाल द्वारा अपने आदेश में यह व्यवस्था दी गई कि घटना एवं क्लेम निरस्तीकरण दोनों में परस्पर संबंध होना चाहिए। चोरी के प्रकरण में वाहन के व्यवसायिक उपयोग का आधार स्वीकार योग्य नहीं है। इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में बढ़ी गिद्धों की संख्या, पर्यावरण संरक्षक गिद्धों की हुई थी गणना आयोग द्वारा बीमा कंपनी की अपील निरस्त कर जिला फोरम का आदेश यथावत रखा गया। वरिष्ठ अधिवक्ता ललित कुमार गुप्ता ने बताया कि बीमित वाहन के चोरी के प्रकरण में जिस कारण क्लेम निरस्त किया गया है एवं जिस कारण घटना घटित हुई है में परस्पर संबंध होना आवश्यक है। केवल तकनीकी कारण से क्लेम को निरस्त नहीं किया जा सकता।